पितृ दिवस 2017

आद्यशक्ति ने बीजरूप में जिसका प्रादुर्भाव ​किया है
सकल सृष्टि की संरचना में बन कर रहा सदा 
​सहयोगी 
​ 
शांत रूप में राम, क्रोध में बन जाया करता है शंकर
और कृष्ण बन कर जीवन में होता है कर्मो का योगी

आज पुनः उस एक पिता के आगे हो करबद्ध हृदय ये
नतमस्तक है
​, और कर रहा 
 रह रह के सादर अभिनंदन
मां की ममता को देता है जीवन मे आयाम नए नित
पितृ दिवस पर अर्पित उसको मुट्ठी भर शब्दों का चंदन

No comments:

सूर्य फिर करने लगा है

रंग अरुणाई हुआ है सुरमये प्राची क्षितिज का रोशनी की दस्तकें सुन रात के डूबे सितारे राह ने भेजा निमंत्रण इक नई मंज़िल बनाकर नीड तत्प...